मन भर गया है जो हमसे- Man bhar gaya hai jo humse Nora Fatehi chhor denge Lyrics

0
225
मन भर गया है जो हमसे- Man bhar gaya hai jo humse Nora Fatehi chhor denge Lyrics

 Man bhar gya hai jo hamse lyrics ” for Hindi lyrics “

Dil toota lekar
Muskura ke chalna sikh diya
Dhokhe ne tere humein
Sambhalna sikha diya

Ho mann bhar gaya hai jo humse
Saare rishte tod denge
Jis din aadat banenge
Usi din hi chhor denge

Ho mann bhar gaya hai jo humse
Saare rishte tod denge
Jis din aadat banenge
Usi din hi chhor denge

Ho hasne na denge tumhein
Rone na denge
Pal pal baad yaad aayenge
Sone na denge

Na yakeen kisi pe bhi
Tum kabhi kar paoge
Kuchh is tarah se tumko
Dil hi dil mein tod denge

Ho mann bhar gaya hai jo humse
Saare rishte tod denge
Jis din aadat banenge
Usi din hi chhor denge

Dil lagane ke liye chale jaana
Ghairon ki tum baahon mein
Yaad meri hi aayegi
Dekhoge jab tum unki nigahon mein

Ho na chhupa paoge tum
Aansu itne denge
Dard banke hum tumhare
Zehan mein utrenge

Maut se mila ke tumko
Zinda hi chhod denge
Hashra pe laake kisse ko
Hasin mod denge

Ho mann bhar gaya hai jo humse
Saare rishte tod denge
Jis din aadat banenge
Usi din hi chhor denge

Marte huye ko bikharte huye ko
Tadapta hua chhod ke
Arre tum kya jaanoge
Kitna maza aata hai dil tod ke

Aane na denge
Aankhon mein apni hum nami
Arre ban’ne na denge
Tumko hum apni kami
Na koyi sawal karna
Na koyi jawab denge
Ginte ginte thak jaoge
Zakhm behisaab denge

Chhor Denge
Chhor Denge

मन घर जाना है छोड़ देंगे – नोरा फतेही

दिल टूटा लेकर
मुस्कुराके चलना सिखा दिया
धोखे ने तेरे हमे
संभालना सिखा दिया

ओ मन भर गया है जो हमसे
सारे रिश्ते तोड़ देंगे
जिस दिन आदत बनेगे
उसी दिन ही छोड़ देंगे

ओ मन भर गया है जो हमसे
सारे रिश्ते तोड़ देंगे
जिस दिन आदत बनेगे
उसी दिन ही छोड़ देंगे

हो हँसने न देंगे तुम्हें
रोने ना देंगे
पल पल बाद याद आयेंगे
सोने ना देंगे
ना यकीन किसी पे भी
तुम कभी कर पाओगे
कुछ इस तरह से तुमको
दिल ही दिल में तोड़ देंगे

ओ मन भर गया है जो हमसे
सारे रिश्ते तोड़ देंगे
जिस दिन आदत बनेगे
उसी दिन ही छोड़ देंगे

दिल लगाने के लिए चले जाना
गैरों की तुम बाहों में
याद मेरी ही आएगी देखोगे जब तुम
उनकी निगाहों में

ओ ना छुपा पाओगे तुम आँसू इतने देंगे
दर्द बनके हम तुम्हारे ज़ेहन में उतरेंगे
मौत से मिलाके तुमको जिंदा ही छोड़ देंगे
हष्र पे लाके किस्से को हसीं मोड़ देंगे

ओ मन भर गया है जो हमसे
सारे रिश्ते तोड़ देंगे
जिस दिन आदत बनेगे
उसी दिन ही छोड़ देंगे
ओ मन भर गया है जो हमसे

सारे रिश्ते तोड़ देंगे
जिस दिन आदत बनेगे
उसी दिन ही छोड़ देंगे
मरते हुए को बिखरते हुए को
तड़पता हुआ छोड़ के
अरे तुम क्या जानोगे
कितना मज़ा आता है
दिल तोड़ के
आने ना देंगे
आखों में अपनी हम नमी

अरे बनने ना देंगे तुमको
हम अपनी कमी
ना कोई सवाल करना
ना कोई जवाब देंगे

गिनते गिनते थक जाओगे ज़ख़्म बेहिसाब देंगे
छोड़ देंगे दर्द-ए-दिल को
छोड़ देंगे छोड़ देंगे

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here