थोडा और

[चले आओ पास मेरे
थोडा और, थोडा और
थोडा और]

ज़रा सी बात है
समझते क्यूँ नहीं
तेरे बिन मैं नहीं
मेरे बिन तू नहीं

मेरे हो जाओ ना
सुनो थोडा और

चले आओ पास मेरे
थोडा और, थोडा और
थोडा और]

ज़रा सी दूरियां भी
नहीं तुमसे गवारा
हाँ ऐसे प्यार हमको
नहीं होगा दोबारा

जहाँ तुम मिलोगे
जाना वहीँ तक है
हंसी है नमी है
जो है तुम्ही तक है

बढ़ने दो चाहत ये
थोडा और, थोडा और
थोडा और

हम्म.. चले आओ पास मेरे
थोडा और, थोडा और
थोडा और

कहाँ ये आगे अभी
तेरे मिलने से पहले
मैं यूँ पागल कहाँ थी
तेरे मिलने से पहले

चलूँ मैं, रुकूँ मैं
तेरे इशारों पे
ज़मीन पे कहाँ हूँ
मैं हूँ सितारों पे

उड़ने दो आज मुझको
थोडा और, थोडा और
थोडा और

[चले आओ पास मेरे
थोडा और, थोडा और
थोडा और]

ज़रा सी बात है
समझाते क्यूँ नहीं
तेरे बिन मैं नहीं
मेरे बिन तू नहीं

मेरे हो जाओ ना
सुनो थोडा और

[चले आओ पास मेरे
थोडा और, थोडा और
थोडा और]

इन्हें भी पढ़ें...  विजय भव
Share via
Copy link