Avadh Mein Laute Hai Shri Ram Lyrics | Shayari Web

अवध में लौटे हैं श्री राम Lyrics In Hindi

राम राम जय जय श्री राम
राम राम जय जय श्री राम
राम राम जय जय श्री राम
राम राम जय जय श्री राम

लम्बा था वनवास राम का
लेकिन यह विश्वास राम का
सच की तप की जय होती है

धैर्य तपा मन ही मोती है
आती है बाधाएँ आयें
जितना रोके और डरायें

जिसने व्रत संकल्प लिया है
आंधी में भी जला दिया है

जग कर दूर करे अंधियारा
हर छल हर षड्यंत्र है हारा

अच्छाई सच्चाई जीते की

घर-घर दीप जले हर शाम
मनाओ दिवाली
अवध में लौटे हैं श्री राम
मनाओ दिवाली

बने हैं सभी के बिगड़े काम
मनाओ दिवाली
अवध में लौटे हैं श्री राम
मनाओ दिवाली

राम राम जय जय श्री राम
राम राम जय जय श्री राम
राम राम जय जय श्री राम
राम राम जय जय श्री राम

वन वन घूम देश को बाँधा
दीन-दुखी को देकर कांधा
तप से शठ अभिमान मिटाकर
सीता को सम्मान दिलाकर

जमीं-शिला को शाप मुक्त कर
कितने पत्थर प्राण युक्त कर
सेतु बंधकर लक्ष्य साध कर
युद्ध जीत कर पाप नाश कर

हो पूरा करके वचन पिता का
लहरा करके विजय पताका
वापस आए अपनी नगरी

सजा है पूरा रघुवर धाम
मनाओ दिवाली
अवध में लौटे हैं श्री राम
मनाओ दिवाली

बने हैं सभी के बिगड़े काम
मनाओ दिवाली
अवध में लौटे हैं श्री राम
मनाओ दिवाली

केवट की भी नौका तारी
सबरी की झूठन स्वीकारी
जो जिसका है उसे दिला कर
शिव में मिलकर बन रामेश्वर

इन्हें भी पढ़ें...  Khal Nayak Hoon Main| Khal Nayak lyrics

आज हृदय आनंद भरा है
पुल्कित अम्बर और धारा है
देशों दिशाएँ सुर में गाती
स्वागत में आतुर हर्षति

बाहें खोल खड़ी हैं माएँ
आंजनेय भी साथ है आए
प्रभु का हो ऐसा अभिषेक की

उनका राज रहे अविराम
मनाओ दिवाली
अवध में लौटे हैं श्री राम
मनाओ दिवाली

बने हैं सभी के बिगड़े काम
मनाओ दिवाली
अवध में लौटे हैं श्री राम
मनाओ दिवाली

राम राम जय जय श्री राम
राम राम जय जय श्री राम…

जय राम श्री राम
जय राम श्री राम…

राम राम जय जय श्री राम
राम राम जय जय श्री राम…

जय राम श्री राम!

गीतकार:
Ashutosh Agnihotri

Share via
Copy link