Meri Aashiqui Lyrics in

बारिशें आ गयी और चली भी गयी
कोई दिल में सिवा तेरे आया नहीं
जब भी सजदा किया नाम तेरा लिया
भूल जाना तुझे हमको आया नहीं

दिल तो है पर जाने क्यूँ
धड़का ही नहीं है कब से
ये दुआ है मेरी रब से

ये दुआ है मेरी रब से
तुझे आशिकों में सबसे
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये

ये दुआ है मेरी रब से
तुझे आशिकों में सबसे
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये

तुम ही अब कुछ कहो
सुलझाऊँ कैसे ये मुश्किल
हाँ.. तुम ही अब कुछ कहो
सुलझाऊँ कैसे ये मुश्किल
झूठ बोल के ही
रख लो ना तुम मेरा ये दिल

चाहो तो तोड़ देना
टूटा ही नहीं ये कब से

ये दुआ है मेरी रब से
तुझे आशिकों में सबसे
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये

कतरा कतरा जी रहा हूँ
लम्हा लम्हा मर रहा हूँ
कैसे खुद को मैं संभालूं तू बता

तेरे बिन है सुना सुना
मेरे दिल का कोना कोना
तू क्या जाने कैसे इतने दिन जिया

कैसे दिल को
कैसे दिल को मैं मनाऊँ
नाराज़ पड़ा है कब से

ये दुआ है मेरी रब से
तुझे आशिकों में सबसे
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये
मेरी आशिकी पसंद आये

इन्हें भी पढ़ें...  JAWAAB LYRICS - Badshah | iLyricsHub | Shayari Web
Share via
Copy link