MULAQAT LYRICS – Prateek Kuhad

Mulaqat Lyrics

Yeh Kaisi Mulaqat Hai
Jaise Sadiyon Se Tum Meri Jaan Ho
Ab Kaise Main Yeh Samjhaun
Kitne Arson Se Tumhara Hi Mujhe
Intezaar Hai

Ho Ho Ho Ho Ho…

Tum Jo Paas Aayi
Choomne Ka Yoon Bahaana Leke
Tab Se Tum Meri Ho Daastaan

Chaand Ko Bulakar Tumne
Chamkayi Meri Jo Raatein
Tab Se Main Tumhara Hi Hua

Dono Hi Kalaiyon Pe
Chaandi Hai Sazi
Honthon Pe Jo Laali Hai
Dil Mein Bas Gayi

Yeh Milan Kisi
Aag Hai
Jal Jaane Ki Hi
Aas Hai

Madhoshi Ho Ya Na Bhi Ho
Iss Pyar Ki Gehrayi Ka Koyi
Intehaan Nahi

Ho Ho Ho Ho Ho…

Naachne Ka Mann Kare Toh
Jhoom Lenge Hum
Aur Sitaaron Ke Bagiche
Ghoom Lenge Hum

Thodi Si Mazakiya Bhi
Baatein Hum Karenge
Mil Gaya Hai Aashiyan
Hum Aankhon Se Kahenge

Yoon Hota Hai Pyar Kyun
Thoda Dar Bhi Hai
Thoda Junoon

Hai Gavah Mehfil Ki Betaabi
Jaane Kaise Koyi Keh Sake
Ke Yeh Ittefaq Hai

Ho Ho Ho Ho Ho…

Yeh Kaisi Mulakaat Hai
Jaise Sadiyon Se Tum Meri Jaan Ho
Ab Kaise Main Yeh Samjhaun
Kitne Arson Se Tumhara Hi Mujhe
Intezaar Hai

Ho Ho Ho Ho Ho…

Ye Kaisi Mulakaat Hai
Ho Ho Ho Ho Ho
Ye Kaisi Mulakaat Hai
Ho Ho Ho Ho Ho

Ye Kaisi Mulaqat Hai
Ho Ho Ho Ho Ho
Ye Kaisi Mulaqat Hai

Written by:
Prateek Kuhad

मुलाकात Lyrics In Hindi

ये कैसी मुलाकात है
जैसे सदियों से तुम मेरी जान हो
अब कैसे मैं ये समझाऊं
कितने अरसों से तुम्हारा ही मुझे
इंतेज़ार है

इन्हें भी पढ़ें...  दिल में हो तूम

हो हो हो हो हो…

तुम जो पास आई
चूमने का यूँ बहाना लेके
तब से तुम मेरी हो दास्तान

चाँद को बुलाकर तुमने
चमकाई मेरी जो रातें
तब से मैं तुम्हारा ही हुआ

दोनों ही कलाईयों पे
चांदी है सजी
होंठों पे जो लाली है
दिल में बस गई

ये मिलन कैसी
आग है
जल जाने की ही
आस है

मदहोशी हो या ना भी हो
इस प्यार की गहराई का कोई
इंतेहा नहीं

हो हो हो हो हो…

नाचने का मन करे तो
झूम लेंगे हम
और सितारों के बागीचे
घूम लेंगे हम

थोड़ी सी मज़ाकिया भी
बातें हम करेंगे
मिल गया है आशियान
हम आँखों से कहेंगे

यूँ होता है प्यार क्यों
थोड़ा डर भी है
थोड़ा जुनून

है गवाह महफ़िल की बेताबी
जाने कैसे कोई कह सके
के ये इत्तेफाक है

हो हो हो हो हो…

ये कैसी मुलाकात है
जैसे सदियों से तुम मेरी जान हो
अब कैसे मैं ये समझाऊं
कितने अरसों से तुम्हारा ही मुझे
इंतेज़ार है

हो हो हो हो हो…

ये कैसी मुलाकात है
हो हो हो हो हो
ये कैसी मुलाकात है
हो हो हो हो

ये कैसी मुलाकात है
हो हो हो हो हो
ये कैसी मुलाकात है

गीतकार:
Prateek Kuhad

Share via
Copy link