फिर भी तुमको चाहूंगी-Phir Bhi Tumko Chaahunga

बाहों में तेरी आके लगा
मेरा सफ़र यहीं तक है
तुमपे शुरु तुमपे ही ख़तम
मेरी कहानी तुम्ही तक है

दिल को जो दे राहत सी
तुझमे है वो ख़ामोशी
सौ बार तलाश लिया खुदको
कुछ तेरे सिवा न मिला मुझको

साँसों से रिश्ता तोड़ भी लूं
तुमसे तोड़ ना पाऊँगी.. हम्म..

मैं फिर भी तुमको चाहूंगी
मैं फिर भी तुमको चाहूंगी
इस चाहत में मर जाउंगी
मैं फिर भी तुमको चाहूंगी

आँखें खुले तो मैं देखूं तुझे
सिर्फ ये ही फ़रमाइश है
पहली तो मुझको याद नहीं
तू मेरी आखरी ख्वाहिश है

सह लूं मैं अब तेरी कमी
मुझसे ये होगा ही नहीं

तुम ऐसे मुझमे शामिल हो
तुम जान मेरी तुम ही दिल हो
शायद मैं भुला दूं खुद को भी
पर तुमको भूल ना पाउंगी
हो..

मैं फिर भी तुमको चाहूंगी
मैं फिर भी तुमको चाहूंगी
इस चाहत में मर जाउंगी
मैं फिर भी तुमको चाहूंगी

इन्हें भी पढ़ें...  हंस मत पगली प्यार हो जायेगा हंस मत पगली प्यार हो जायेगा-Has mat pagli Pyar ho jayega
Share via
Copy link