RAM JI KA NAAM LYRICS – Sukhwinder Singh | Shayari Web

श्री राम राम श्री राम राम
बोलो राम जय जय राम
श्री राम राम श्री राम राम
बोलो राम जय जय राम

जय जय जय जय जय
बोलो जय जय जय जय जय
श्री राम चंद्र भगवंत
जपले होकर निर्भय

जय जय जय जय जय
बोलो जय जय जय जय जय
श्री राम चंद्र भगवंत
जपले होकर निर्भय

राम जी का नाम लेके सुबह शाम
कष्ट हरेंगे बोलो जय जय राम
जय जय राम बोलो जय जय राम

राम सिया राम बोलो जय जय राम
जय जय राम बोलो जय जय राम
सब कष्ट हरेंगे बोलो जय जय राम
जय जय राम बोलो जय जय राम

जपले जपले श्री राम का नाम
जय जय राम बोलो जय जय राम

राम जी करेंगे बेडा पार वहां
संकट कटेंगे हर जनम जहां
गूँजेगा गूँजेगा कण कण में
जय सीता राम जय सीता राम

हो हो.. गूँजेगा गूँजेगा
कण कण में
जय सीता राम जय सीता राम

जय जय जय जय जय
बोलो जय जय जय जय
श्री राम चंद्र भगवंत
जपले होकर निर्भय

जय जय जय जय जय
बोलो जय जय जय जय
श्री राम चंद्र भगवान
जपले होकर निर्भय

धूम मची है देखो
नगरी अयोध्या में
मिलकर ख़ुशियाँ मनाएं

यहाँ वहाँ देखो जहाँ
पग पग गली गली
जय जय जय जय गूँजते जाएं

तारों सितारों के
दीप जलाएं हैं
झूमती बहारें देखो
झूमती दिशाएं हैं

राम जी करेंगे बेडा पार वहां
संकट कटेंगे हर जनम जहां
गूँजेगा गूँजेगा कण कण में
जय श्री राम जय श्री राम

राम जी का नाम लेके सुबह शाम
कष्ट हरेंगे बोलो जय जय राम
जय जय राम बोलो जय जय राम
जय जय राम बोलो जय जय राम

इन्हें भी पढ़ें...  ZERO AFTER ZERO LYRICS - Kr$Na | Shayari Web

राम सिया राम बोलो जय जय राम
जय जय राम बोलो जय जय राम
जपलो जपलो श्री राम का नाम
जय जय राम बोलो जय जय राम

जय जय जय जय जय जय
बोलो जय जय जय जय जय
श्री राम चंद्र भगवंत
जपले होकर निर्भय

छन छना नाना छना नाना
छन छन छन छन
गूँजेगी आज श्री राम धुन
मन मगन मगन होकर के आज
नाचे भक्तों के साथ साथ

छन छना नाना छना नाना
छन छन छन छन
गूँजेगी आज श्री राम धुन
मन मगन मगन होकर के आज
नाचे भक्तों के साथ साथ

राम जी का नाम लेके सुबह शाम
जय जय राम बोलो जय जय राम
जपलो जपलो श्री राम का नाम
जय जय राम बोलो जय जय राम

राम सिया राम बोलो जय जय राम
जय जय राम बोलो जय जय राम
जपलो जपलो श्री राम का नाम
जय जय राम जय जय राम
राम राम राम

जय जय राम जय जय राम
राम राम राम
जय जय राम जय जय राम
राम राम राम

जय जय राम जय जय राम
राम राम राम
जय जय राम जय जय राम
राम राम राम

सियावर रामचंद्र की जय
पवनसुत हनुमान की जय

गीतकार:
Sukhwinder Singh

Share via
Copy link