खैरियत Khairiyat

खैरियत पूछो कभी तो कैफियत पूछो
तुम्हारे बिन दीवाने का क्या हाल है

दिल मेरा देखो ना मेरी हैसियत पूछो
तेरे बिन एक दिन जैसे सौ साल है

अंजाम है तय मेरा
होना तुम्हें है मेरा
जितनी भी हों दूरियां फिलहाल हैं
ये दूरियां फिलहाल हैं

तुम्हारी तस्वीर के सहारे
मौसम कई गुज़ारे
मौसमी ना समझो पर इश्क को हमारे
नज़रों के सामने मैं आता नहीं तुम्हारे
मगर रहते हो हर पल मंज़र में तुम हमारे

अगर इश्क से है मिला
फिर गर्द से क्या गिला
इस गर्द में ज़िन्दगी खुशहाल है
हिंदी ट्रैक्स
ये दूरियां फिलहाल हैं

खैरियत पूछो कभी तो कैफियत पूछो
तुम्हारे बिन दीवाने का क्या हाल है

अंजाम है तय मेरा
होना तुम्हें है मेरा
जितनी भी हों दूरियां फिलहाल हैं
ये दूरियां फिलहाल हैं

इन्हें भी पढ़ें...  पेप्सी की क़सम Pepsi Ki Kasam
Share via
Copy link